October 26, 2021

कोरोना गाइडलाइंस की धज्जियां उड़ने से संक्रमण फैलने का खतरा, गृह मंत्रालय ने राज्यों से कहा- अफसरों को जिम्मेदार बनाएं

नई दिल्ली। हिल स्टेशनों और बाजारों में भारी भीड़ से परेशान सरकार ने राज्यों को लेटर लिखकर कोरोना गाइडलाइंस के घोर उल्लंघन पर सलाह दी है। गृह मंत्रालय की ओर से लिखे इस लेटर में कहा गया है कि बाजारों में भारी भीड़ उमड़ रही है। सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का उल्लंघन किया जा रहा है। नतीजतन, कुछ राज्यों में R फैक्टर (रिप्रोडक्शन नंबर) में बढ़ोतरी चिंता का विषय है। गृह मंत्रालय ने कहा है कि राज्य गाइडलाइंस के सख्ती से पालन के लिए अधिकारियों को निजी तौर पर जिम्मेदार बनाएं।

चीफ सेक्रेटरी और एडमिनिस्ट्रेटर्स को लिखी चिट्‌ठी में कहा गया कि देश में कोरोना के एक्टिव केस ​​​​की संख्या में गिरावट देखी जा रही है। राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने धीरे-धीरे अपने यहां छूट देने लगे हैं। देश के कई हिस्सों में, खास तौर से हिल स्टेशनों में, कोरोना गाइडलाइंस का घोर उल्लंघन देखा गया है।

R फैक्टर का बढ़ना कोरोना के दोबारा फैलने का संकेत
R फैक्टर में 1.0 से ऊपर कोई भी बढ़ोतरी कोरोना के फैलने का संकेत है। इसलिए यह जरूरी है कि संबंधित अधिकारियों को सभी भीड़-भाड़ वाली जगहों जैसे दुकानों, मॉल, बाजारों, रेस्तरां, रेलवे स्टेशनों और दूसरे हॉटस्पॉट में कोविड प्रोटोकाल का पालन करने के लिए जिम्मेदार बनाया जाए।

नई एडवाइजरी के मुताबिक, यदि किसी कैंपस या मार्केट में कोविड एप्रोपिएट बिहेवियर नहीं किया जाता है, तो ऐसी जगहों पर फिर से पाबंदी लागू की जाए। मंत्रालय ने कहा कि टेस्ट, ट्रैक, ट्रीटमेंट, वैक्सीनेशन और गाइडलाइंस के पालन की 5 फोल्ड स्ट्रेटेजी पर लगातार ध्यान देना चाहिए।

क्या है रिप्रोडक्शन नंबर
वायरस किस रफ्तार से फैल रहा है, रिप्रोडक्शन नंबर इसे परखने का एक पैमाना है। अगर किसी जगह यह 2 है तो इसका मतलब है कि एक कोरोना पॉजिटिव शख्स औसतन 2 लोगों को संक्रमित कर रहा है। अगर R नंबर एक से ज्यादा है तो वायरस तेजी से फैल सकता है। अगर 1 से कम है तो मान सकते हैं कि संक्रमण काबू में है।

देश में तीसरी लहर की आशंकाओं के बीच हिल स्टेशनों पर पर्यटकों की उमड़ती भीड़ ने सरकार और लोकल एडमिनिस्ट्रेटर्स की नींद उड़ा दी है। उत्तराखंड सरकार की ओर से लॉकडाउन में ढील देने के 20 दिन बारद मसूरी में कोरोना के 3 मामले सामने आए हैं।

नोडल ऑफिसर डॉ. प्रदीप राणा ने बताया कि तीनों कैंटोन्मेंट एरिया के रहने वाले हैं। सभी को क्वारैंटादन कर दिया गया है। उनके संपर्क में आए 20 लोगों की भी कोरोना जांच कराई गई है। फिलहाल इन सभी RT-PCR रिपोर्ट नहीं आई है।

कोरोना प्रोटोकॉल का उल्लंघन चिंता की बात

  • कोरोना की तीसरी लहर की चेतावनी के बीच देश के फेमस हिल स्टेशनों पर पर्यटकों की भारी भीड़ के कारण मसूरी और नैनीताल चर्चा में हैं। सोशल मीडिया पर वीडियो में मसूरी और नैनीताल की ओर जाने वाली सड़कों पर वाहनों की लंबी कतारें दिखाई गईं। इस दौरान लोग सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का भी उल्लंघन करते दिखाई दिए।
  • इससे पहले मंगलवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी अपने ब्रीफिंग में हिल स्टेशनों पर भीड़ की तस्वीरें भी दिखाई थीं। इस दौरान मंत्रालय ने पर्यटकों को लापरवाही पर चिंता जताई थी। नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने कहा था कि यह गंभीर चिंता का विषय है।

error: Content is protected !!