June 16, 2021

नरेंद्र गिरि की मौजूदगी में बार-बालाओं के ठुमके: अखाड़ा परिषद ने हनुमान मंदिर के चढ़ावे के पैसे से कराई सेवक की शादी

प्रयागराज। निरंजनी अखाड़े से निष्कासित योग गुरु स्वामी आनंद गिरि और अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद अध्यक्ष के महंत नरेंद्र गिरि के बीच विवाद बढ़ता जा रहा है। बुधवार शाम एक ऐसा वीडियो सामने आया, जिसने आग में घी डालने का काम किया है। एक शादी समारोह में स्टेज पर दूल्हा-दुल्हन पर नोटों की बारिश की जा रही है। दूसरी तरफ बार बालाओं पर नोट उड़ाए जा रहे हैं। इस दौरान महंत नरेंद्र गिरि भी मौजूद थे। इसे लेकर आनंद गिरि का दावा है कि एक रिजॉर्ट में हुई इस शाही शादी का पूरा खर्च लेटे हनुमान मंदिर के पैसों से किया गया है।

सोशल मीडिया पर दो वीडियो सामने आए हैं। एक वीडियो में बार बालाएं थिरक रही हैं और उनके साथ लेटे हनुमान मंदिर मठ से जुड़े लोग डांस कर रहे हैं। बार बालाओं पर नोटों की बारिश भी की जा रही है। चार मिनट नौ सैकेंड के इस वीडियो में मंच पर दूल्हा और दूल्हन की मौजूदगी में कई युवक बार बालाओं के साथ डांस करते नजर आ रहे हैं। कहा जा रहा है कि यह वीडियो मठ से जुड़े अभिषेक मिश्रा की शादी का है। वहीं, 29 सैकेंड के दूसरे वीडियो में स्वस्ति वाचन के बीच नोटों की बारिश हो रही है। इस वीडियो में महंत नरेंद्र गिरी दूल्हा-दुल्हन को आशीर्वाद दे रहे हैं।

8 मई को हुई थी शादी, सारा पैसा लेटे हनुमानजी का
अखाड़े से निकाले गए योग गुरु आनंद गिरि ने दावा किया है, ‘लेटे हनुमान मंदिर से जुड़े अभिषेक मिश्रा की शादी प्रयागराज स्थित झलवा के एक रिसार्ट में 8 मई को हुई थी। इस शादी में जितना भी पैसा खर्च हुआ है वह सब लेटे हनुमान जी मंदिर का है। डांस करने वाले लड़के मठ के ही हैं। शादी की सारी खरीदारी मठ के पैसों से ही हुई हैं। यही सब वजहें थीं जिनसे मैं आहत था। यह पहले भी होता रहा है। लेकिन कुछ महीने से ज्यादा हो गया है। अब मठ का पैसा ऐसे ही कामों में खर्च किया जा रहा है।’

‘जब सैकड़ों करोड़ रुपए मठ की जमीन बेचकर आए तो मैंने कहा था कि इन पैसों से कुछ जमीन खरीद ली जाए पर मेरी नहीं सुनी गई। जब मैंने इसका खुलकर विरोध किया तो मुझे मठ से निकाल दिया गया। अगर यह सब नहीं रुका तो मठ का पतन हो जाएगा। इस पर रोक लगनी चाहिए।’

नरेंद्र गिरि की सफाई- किसी भक्त को आशीर्वाद देना पाप नहीं
इस पूरे मामले में अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने सफाई देते हुए कहा, ‘मैं बार-बालाओं के डांस में नहीं हूं। हां, शादी में जरूर गया था। किसी भक्त की शादी में जाना और उसे आशीर्वाद देना कोई पाप नहीं है। जब मैं मंच पर गया तो स्वस्ति वाचन हो रहा था और मैं वर और वधू को आशीर्वाद दे रहा था। मैं थोड़ी न नोट उड़ा रहा हूं। दूल्हे के माता-पिता न्यौछावर डालते हैं तो उसमें मेरा क्या दोष हैं। यह नोटों की बारिश नहीं न्यौछावर डाली जा रही थी। बार-बालाओं के डांस से मेरा कोई लेना देना नहीं।’

वहीं, आनंद गिरि के आरोपों पर महंत नरेंद्र गिरि ने कहा, ‘वे (आनंद गिरी) कह रहे हैं कि मैंने शहर में अरबों रुपए के मकान बनवा लिए तो मेरे पास क्या कोई खजाना है? जिसको मैं लुटा रहा हूं। आनंद गिरि रोज एक वीडियो जारी करें तो मैं जवाब थोड़े न देता फिरूंंगा। जारी करते रहें। आनंद गिरि ने मुख्यमंत्री, महामहिम राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है। मैं किसी भी जांच का सामना करने को तैयार हूं। जांच हो जाए सब साफ हो जाएगा। मैं सहयोग करने को तैयार हूं।’

error: Content is protected !!