June 16, 2021

29 जनवरी से शुरू हो रहा है माघ का पवित्र महीना, इस दौरान आएंगे ये खास त्योहार

रायपुर। इस दिन भगवान गणेशजी के साथ-साथ भगवान शिव, माता पार्वती, कार्तिकेय, नंदी एवं चंद्रदेव की पूजा का विधान है. यूं तो हर मास का अपना अलग महत्व होता है लेकिन माघ मास (Magh Mass) को काफी पवित्र माना जाता है. इसी महीने में संगम पर कल्पवास भी किया जाता है. माघ का यह महीना 29 जनवरी से शुरू होकर 27 फरवरी 2021 को समाप्त होगा. इस महीने में स्नान और दान करना काफी शुभ माना जाता है. इस महीने में राजिम, शिवरीनारायण, महादेवघाट-रायपुर, प्रयाग, कुरुक्षेत्र , हरिद्धार, काशी , नासिक, उज्जैन तथा अन्य पवित्र तीर्थों और नदियों में स्नान का बड़ा महत्व है. 

माघ मास के महत्वपूर्ण  त्योहार

सकट चौथ- सकट चौथ का व्रत संतान के लिए रखा जाता है.

षठतिला एकादशी- षटतिला एकादशी माघ मास के कृष्‍ण पक्ष की एकादशी को कहा जाता है. इस दिन तिल का प्रयोग 6 प्रकार से करने पर पापों का नाश होता है .

मौनी अमावस्या- माघ के महीने में आने वाली अमावस्या को मौनी अमावस्या या माघ अमावस्या के नाम से भी जाना जाता है. मान्यताओं के अनुसार इस दिन पवित्र संगम में देवताओं का निवास होता है इसलिए इस दिन गंगा स्नान का विशेष महत्व है.

वसंत पंचमी- वसंत पञ्चमी या श्रीपंचमी एक हिन्दू का त्योहार है. इस दिन विद्या की देवी सरस्वती की पूजा की जाती है. यह पूजा पूर्वी भारत, पश्चिमोत्तर बांग्लादेश, नेपाल और कई राष्ट्रों में बड़े उल्लास से मनायी जाती है. इस दिन पीले वस्त्र धारण करते हैं.

जया एकादशी- स्नान-दान और पुण्य प्रभाव के माह माघ मास की शुक्लपक्ष एकादशी को जया एकादशी कहा गया है. जया एकादशी के पुण्य के कारण मनुष्य सभी पापों से मुक्त होकर जीवन के हरेक क्षेत्र में विजयश्री प्राप्त करता है और मोक्ष का अधिकारी हो जाता है.


माघ पूर्णिमा- माघ पूर्णिमा को महा माघी और माघी पूर्णिमा जैसे नामों से भी जानते हैं. इस दिन चंद्रमा की पूजा का विशेष महत्व होता है. पूर्णिमा के दिन दान, पुण्य और स्नान को शुभ फलकारी माना जाता है. 

error: Content is protected !!